चुकन्दर की उन्नत खेती कैसे करें | chukandar ki kheti | beetroot in hindi

चुकन्दर का वानस्पतिक नाम (Botanical Name) - Beta vulgaris

चुकन्दर का कुल (Family) - Chenopodiaceae


भारत व संसार के अन्य ठण्डे क्षेत्रों में ही चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) की जाती है ।

इन ठण्डे क्षेत्रों में रूस, अमेरिका, इटली, जर्मनी व अन्य यूरोपीय देश सम्मिलित हैं ।

भारत में चुकन्दर की खेती उत्तराखण्ड, काश्मीर, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान व पंजाब के ठण्डे क्षेत्रों में रबी के मौसम में की जाती है ।

चुकन्दर (beetroot in hindi) मूल रूप से एक ठण्डी जलवायु की फसल है । इसके अंकुरण के लिए 12-16°C तापमान अनुकूल होता है ।

चुकन्दर (chukandar) के पौधों की अच्छी वृद्धि एवं बढ़वार के लिए 22-25°C तापमान उपयुक्त रहता है ।

28°C से अधिक तापमान होने पर चुकन्दर (beetroot in hindi) के कन्द में शर्करा की मात्रा 16% से घटने लगती है ।


चुकन्दर की खेती से लाभ


चुकन्दर की फसल (chukandar ki fasal) चीनी के उत्पादन में उपयोग में लाई जाने वाली प्रमुख फसल गन्ने का विकल्प है ।

इसके पौधे का हरा वानस्पतिक भाग पशुओं के लिए चारे के रूप में प्रयुक्त होता है ।

चुकन्दर (beetroot in hindi) का लोग भोजन में प्रायः सलाद के रूप में भी प्रयोग करते हैं ।


चुकन्दर का संघटन


चुकन्दर में 70 से 75 प्रतिशत जल तथा 25 से 30 प्रतिशत ठोस पदार्थ पाए जाते हैं ।

इसमें 17-18 प्रतिशत तक शर्करा पाई जाती है तथा 6 से 8 प्रतिशत तक अन्य ठोस पदार्थ पाए जाते हैं ।

अतः चुकन्दर (beetroot in hindi) चीनी का एक महत्वपूर्ण स्रोत है ।


चुकन्दर का भौगोलिक वितरण


चुकन्दर के कन्द से लगभग सन् 1750 में सर्वप्रथम जर्मनी की प्रयोगशाला में चीनी के क्रिस्टलों (crystals) का निर्माण किया गया ।

यहीं से अनेक यूरोपीय देशों में चुकन्दर का प्रचार एवं प्रसार हुआ ।

वर्तमान समय में चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) करने वाले प्रमुख देशों में रूस, इटली, फ्रांस, जर्मनी तथा संयुक्त राज्य अमेरिका आदि हैं । 

सम्पूर्ण विश्व में लगभग 10 मिलियन हैक्टेयर क्षेत्रफल पर चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) की जाती है और इसका कुल उत्पादन 270 मिलियन टन है ।

इसकी औसत उत्पादकता लगभग 360 क्विटल / हैक्टेयर है ।

भारत में चुकन्दर की खेती करने वाले प्रमुख राज्यों में हिमाचल प्रदेश, उत्तरांचल काश्मीर, पंजाब व राजस्थान आदि हैं ।


चुकन्दर का वानस्पतिक विवरण


चुकन्दर का पौधा द्विवार्षिक (biennial) होता है ।

प्रथम वर्ष में इसके पौधे में जड़ें एवं पत्तियाँ आदि बनते हैं जबकि दूसरे वर्ष में इसके पौधे पर फूल व बीज बनते हैं ।

इसकी मुख्य जड़ मूसला जड़ (tap root) होती है तथा इसका कन्द (tuber) मोटा रसदार एवं खाने में स्वादिष्ट होता है ।


चुकन्दर की खेती के लिए उचित जलवायु


चुकन्दर मूल रूप से एक ठण्डी जलवायु (cool climate) की फसल है ।

उत्तरी भारत में चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) रबी के मौसम में की जाती है ।

इसके बीज के अंकुरण के लिए 12-16°C तापमान अनुकूल होता है ।

पौधों की उचित वृद्धि एवं बढ़वार के लिए 22-25°C तापमान उपयुक्त रहता है ।

तापमान अधिक हो जाने पर चुकन्दर में शर्करा की मात्रा घट जाती है ।


चुकन्दर की खेती के लिए उपयुक्त भूमि


चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) के लिए बलुई दोमट मृदा सर्वोत्तम होती है ।

खेत में जल निकास का उचित प्रबन्ध होना आवश्यक है ।

उपयुक्त मृदा का pH मान 6.5 से 7.5 तक होना चाहिए ।

चुकन्दर की फसल एक 'लवणरोधी फसल' (salt tolerant crop) ।

यह pH मान 9.0 तक बाली मृदाओं में भी उगाई जा सकती है ।

अम्लीय व जलमग्न भूमियाँ चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) के लिए अनुकूल नहीं हैं ।


ये भी पढ़ें :-


भारत में चुकन्दर की उन्नत खेती कैसे करें? | chukandar ki kheti

चुकन्दर की उन्नत खेती कैसे करें | chukandar ki kheti | beetroot in hindi, चुकंदर की खेती, चुकन्दर की फसल, चुकन्दर के लाभ, beet in hindi, चुकंदर का बीज
चुकन्दर की उन्नत खेती कैसे करें | chukandar ki kheti | beetroot in hindi

चुकन्दर की खेती के लिए भूमि की तैयारी कैसे करें?


खरीफ की फसल की कटाई के पश्चात् मिट्टी पलटने वाले हल से खेत की एक गहरी जुताई करनी चाहिए ।

सामान्यतः बुवाई से पूर्व एक सिंचाई पलेवा के रूप में की जाती है ।

तत्पश्चात् 3 या 4 बार हैरो चलाकर खेत की मिट्टी बारीक एवं भुरभुरी बना ली जाती है ।

आवश्यकतानुसार पाटे का प्रयोग भी करना चाहिए ।


चुकन्दर की खेती में अपनाए जाने वाले फसल चक्र


चुकन्दर रबी के मौसम में उगाई जाने वाली एक शर्करायुक्त फसल है ।

चुकन्दर की फसल (chukandar ki fasal) के साथ अपनाए जाने वाले फसल चक्र रबी की फसलों के साथ अपनाए जाने वाले फसल चक्रों के समान हैं ।

खरीफ के मौसम में उगाई जाने वाली फसलों जैसे - मक्का ज्वार बाजरा, धान व अहरहर आदि के बाद चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) की जा सकती है ।


चुकन्दर की फसल के साथ अपनाए जाने वाले प्रमुख फसल चक्र निम्न प्रकार है -

  • ज्वार - चुकन्दर ( एकवर्षीय )
  • बाजरा चुकन्दर ( एकवर्षीय )
  • मक्का - चुकन्दर ( एकवर्षीय )
  • लोबिया - चुकन्दर ( एकवर्षीय )


अन्तः फसली खेती


शरदकालीन गन्ने के साथ चुकन्दर की अन्तः खेती काफी प्रचलित है ।


चुकन्दर की प्रमुख जातियाँ


भारत में संसार के विभिन्न देशों से आयात की गई चुकन्दर की विभिन्न जातियाँ निम्न प्रकार है -

  • ट्राइबेल ( Tribel ) 
  • ट्राइप्लेक्स ( Trip )
  • रामोन्सकाया ( Ramonskaya ) 
  • dfat tramviet ( Maribo Magnapoly ) 
  • hfat ureteraît ( Maribo Anglopoly )


भारत में यहाँ की जलवायु के लिए अधिक अनुकूल प्रजाति के विकास पर कार्य विभिन्न शोध संस्थानों में चल रहा है ।


चुकन्दर की खेती कब करें?


चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) भारत में रबी के मौसम में की जाती है ।

इसकी बुवाई के लिए उपयुक्त समय 15 अक्टूबर से 30 अक्टूबर है ।


चुकन्दर का बीज कैसे बनता है?


चुकन्दर का बीज उत्पादन केवल ठण्डे क्षेत्रों में ही सम्भव है ।

भारत के उत्तरी एवं पर्वतीय क्षेत्रों में इसका बीजोत्पादन किया जाता है ।

इसके लिए मैदानी क्षेत्रों की जलवायु अधिक तापमान के कारण उपयुक्त नहीं है ।

फसल में बीज उत्पादन बुवाई के दूसरे वर्ष में होता है ।

एक हैक्टेयर चुकन्दर की फसल से लगभग 5 से 6 क्विटल तक बीज प्राप्त होता है ।


चुकन्दर की बीज दर कितनी होती है?


चुकन्दर की एक हैक्टेयर खेत की बुवाई के लिए 8 से 10 कि. बीज की आवश्यकता होती है ।


ये भी पढ़ें :-


चुकन्दर की फसल में बोल्टिंग का क्या अर्थ है?


चुकन्दर का पौधा द्विलार्षिक (biennial) होता है ।

इसके पौधे में पहले वर्ष में जड़ें व पत्तियाँ आदि बनते हैं तथा दूसरे वर्ष में फूल व बीज बनते हैं ।

कभी - कभी वायुमण्डल का ताप बढ़ जाने पर तथा वातावरण प्रतिकूल रहने पर इसकी फसल में प्रथम वर्ष में ही पुष्पक्रम व फूल बन जाते हैं, इसे 'चुकन्दर में बोल्टिंग(bolting in beetroot in hindi) कहा जाता है ।


चुकन्दर की बुवाई की विधि


चुकन्दर की फसल की बुवाई डिबलर द्वारा व हल के पीछे कुंडों में की जा सकती है ।

चुकन्दर की बुवाई समतल खेत में या मेंडों पर पंक्तियों में की जाती है ।


चुकन्दर की फसल में अन्तरण


चुकन्दर की फसल उगाने के लिए पंक्ति से पंक्ति की दूरी 50 सेमी. व पौधे से पौधे की दूरी 15 से 20 सेमी. उचित रहती है ।


चुकन्दर की बुवाई की गहराई


चुकन्दर का बीज 3 से 4 सेमी० की गहराई पर बोना चाहिए ।


चुकन्दर में बीजोपचार


चुकन्दर के एक किग्रा. बीज को उपचारित करने के लिए 2 ग्राम थायराम रसायन की मात्रा पर्याप्त रहती है ।


चुकन्दर की खेती के लिए आवश्यक खाद एवं उर्वरक


चुकन्दर की खेती (chukandar ki kheti) के लिए इसकी बुवाई से एक माह पूर्व 30-40 क्विटल गोबर की सड़ी - गली खाद खेत में प्रति हैक्टेयर की दर से फैलाकर मिला देनी चाहिए ।

इस फसल की अच्छी पैदावार लेने के लिए 120 कि. नाइट्रोजन, 80 किग्रा. फास्फोरस व 100 किग्रा. पोटाश प्रति हैक्टेयर की दर से प्रयोग करना चाहिए ।

भूमि परीक्षण के पश्चात् ही पोषक तत्वों की मात्रा का निर्धारण करना चाहिए ।

उपरोक्त नाइट्रोजन का आधा भाग तथा सम्पूर्ण फास्फोरस व पोटाश बुवाई के समय ही प्रयोग करना चाहिए ।

नाइट्रोजन की शेष मात्रा फसल की बुवाई के लगभग 50 दिनों बाद विरलीकरण की क्रिया के बाद प्रयोग करनी चाहिए ।

हल्की भूमियों में इस मात्रा को दो या तीन बार में प्रयोग करना लाभकारी रहता है ।


चुकन्दर की खेती के लिए आवश्यक सिंचाई


चुकन्दर की फसल की कुल जलमाँग लगभग 1000 मिमी. है ।

इसकी फसल के कुल अन्तराल में तापमान एवं वर्षा को ध्यान में रखते हुये यह से 10 सिंचाइयों से पूर्ण की जाती है ।

सामान्यतः 3 सप्ताह के अन्तराल पर खेत की सिंचाई करनी आवश्यक होती है किन्तु खेत में जलभराव की स्थिति नहीं होनी चाहिए ।

इससे चुकन्दर के कन्द की वृद्धि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है ।


चुकन्दर में विरलीकरण


चुकन्दर (beetroot in hindi) के प्रत्येक बीज से बुवाई के पश्चात् 3 से 5 बीजांकुर फूटते है जिससे प्रति इकाई क्षेत्रफल में पौधों की संख्या बहुत अधिक होने की सम्भावना रहती है ।

बुवाई के एक माह बाद पौधों की छटाई कर देनी चाहिए । पौधों की छटाई करना ही विरलीकरण (thinning) कहलाता है ।

चुकन्दर के एक हैक्टेयर खेत में पौधों की संख्या 70-75 हजार रखी जाती है ।


चुकन्दर की फसल पर मिट्टी चढ़ाना


पौधों के कुछ बड़ा होने पर कन्द की अच्छी वृद्धि के लिए उस पर मिट्टी चढ़ाने का कार्य किया जाता है ।

अक्टूबर माह में बोई गई चुकन्दर की फसल के लिए मिट्टी चढ़ाने का कार्य दिसम्बर माह का समय उपयुक्त होता है ।

मिट्टी चढ़ाने से चुकन्दर की फसल के कन्द फूल जाते हैं जिससे उपज में वृद्धि होती है ।


चुकन्दर की फसल में लगने वाले खरपतवार एवं उनका नियन्त्रण


उत्तरी भारत में चुकन्दर रबी के मौसम में उगाई जाती है अत: इस फसल के साथ रबी के मौसम के खरपतवार भारी मात्रा में उग जाते है ।

चुकन्दर को खरपतवारों की हानि से बचाने के लिए - बुवाई के दो माह तक जलमाँग कुल 8 लगभग दो बार निराई करनी चाहिए ।

खरपतवारनाशियों के प्रयोग से भी खरपतवारों को नष्ट किया जा सकता है ।

इस फसल में पैरामीन खरपतवारनाशी की 1 किग्रा मात्रा का 1000 लीटर जल में घोल बनाकर छिड़काव करने से उगने वाले खरपतवार नष्ट हो जाते हैं ।


चुकन्दर की फसल सुरक्षा


चुकन्दर की फसल पर बिहार रोमिल इल्ली का प्रकोप होने से फसल को हानि होती है ।

इस पर नियन्त्रण - थायडान या थायमेट 10G का प्रयोग करना चाहिए ।

चुकन्दर की फसल में लगने वाले रोगों में पर्णचित्ती (leaf spot) व मूल विगलन (root rot) आदि प्रमुख है ।

इनका समयानुसार उपचार कर होने वाली क्षति से बचा जा सकता है ।


चुकन्दर कितने दिन में तैयार हो जाती है?


चुकन्दर की फसल बुवाई के लगभग 180-200 दिनों में तैयार हो जाती है ।


चुकन्दर की फसल की कटाई


अक्टूबर माह में बोई गई फसल अप्रैल के प्रथम पखवाड़े में पककर कटाई के लिए तैयार हो जाती है ।

इस फसल की कटाई से 4-5 दिन पूर्व खेत की एक हल्की सिंचाई करनी चाहिए और तत्पश्चात् फसल की कटाई की जाती है ।

सिंचाई करने से खेत में पर्याप्त नमी होने पर चुकन्दर के कन्दों को सरलतापूर्वक मृदा से निकाला जा सकता है ।


चुकन्दर की फसल से प्राप्त उपज


चुकन्दर के एक हैक्टेयर खेत से लगभग 400 क्विटल तक कन्दों की प्राप्ति होती है और लगभग 50-60 क्विटल तक हरा चारा भी प्राप्त होता है ।


People also ask (Questions and answers)


चुकंदर की खेती कब करें? 

चुकंदर का बीज कैसे बनता है? 

गाजर की खेती कैसे करें? 

चुकंदर का क्या रेट है? 

चुकंदर के फायदे क्या है? 

चुकंदर कब खाना चाहिए? 

चुकंदर कैसे खाएं? 

चुकंदर खाने से क्या नुकसान है? 

खाली पेट चुकंदर खाने से क्या होता है? 

चुकंदर का सेवन कब करना चाहिए? 

चुकंदर में क्या विटामिन है? 

चुकंदर का जूस पीने के क्या फायदे हैं?


शलजम की खेती

चुकंदर का रेट

गाजर की खेती

चुकंदर का बीज कहां मिलेगा

चुकंदर कितने रुपए किलो है

चुकंदर खाने के फायदे

शिमला मिर्च की खेती

चुकंदर के बीज का भाव

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post