दलहनी फसलों में राइजोबियम कल्चर का प्रयोग क्यों एवं कैसे किया जाता है?

राइजोबियम कल्चर क्या है (rhizobium culture kya hai) - एक सहजीवी जैव उर्वरक या जीवाणु होते है, जो दलहनी फसलों में नाइट्रोजन स्थिरीकरण का कार्य करते हैं ।

दलहनी फसलों में बुवाई से पहले राइजोबियम कल्चर (rhizobium culture in hindi) का प्रयोग अत्यंत आवश्यक होता है ।

राइजोबियम जीवाणु दलहनी फसलों की जड़ों की गाँठों पर पाए जाते हैं ।

दलहन वर्ग की फसलों में राइजोबियम कल्चर के प्रयोग से रासायनिक उर्वरकों की आवश्यकता कम पड़ती है ।


राइजोबियम कल्चर किसे कहते हैं एवं इसकी प्रयोग विधि

राइजोबियम कल्चर (rhizobium culture in hindi) किसे कहते हैं, दलहनी फसलों में राइजोबियम कल्चर प्रयोग क्यों एवं कैसे किया जाता है इसकी प्रयोग विधि बताएं
दलहनी फसलों में राइजोबियम कल्चर का प्रयोग क्यों एवं कैसे किया जाता है?

राइजोबियम कल्चर की परिभाषा -


दलहनी फसलों की जड़ों में पाये जाने वाली गाँठों पर राइजोबियम जीवाणु पाये जाते हैं जो वायुमण्डल में पाये जाने वाली नाइट्रोजन को भूमि में स्थिर करने का कार्य करते हैं ।

इन जीवाणुओं को सक्रिय करने के लिये दलहन वर्ग की फसलों की बुवाई करने से पूर्व एक विशेष प्रकार की कल्चर से उपचारित किया जाता है, इसे राइजोबियम कल्चर (rhizobium culture in hindi) कहते हैं ।

इसके प्रयोग से दलहनी फसलें एक हैक्टेयर खेत में 30 से 50 किग्रा० तक नाइट्रोजन प्रतिवर्ष संचित करती हैं ।


ये भी पढ़ें :-


दलहनी फसलों में राइजोबियम कल्चर प्रयोग कैसे किया जाता है?


यदि खेत में चने की फसल प्रथम बार या 5-6 वर्षों के बाद पुनः बोई जा रही है तो चने के बीज को उपयुक्त राइजोबियम कल्चर (rhizobium culture in hindi) से उपचारित करना चाहिये ।

राइजोबियम कल्चर का उपचार बीज के फफूंदीनाशक रसायन के उपचार के पश्चात् ही करना चाहिये ।


राइजोबियम कल्चर की प्रयोग विधि


दलहनी फसलों के बीज को बुवाई से पूर्व राइजोबियम कल्चर से उपचारित करने के लिये आधा लीटर जल में 50 ग्राम गुड़ का घोल बनाते हैं ।

इस घोल को 10 मिनट तक गर्म करने के पश्चात् ठण्डा करना चाहिये ।

इसमें 250 ग्राम राइजोबियम कल्चर (rhizobium culture in hindi) (एक पैकिट) को 25 किग्रा. बीज पर डालकर मिला लेते हैं ।

तत्पश्चात् इस बीज को छाया में सुखाकर बुवाई करते हैं ।

अत: दलहन वर्ग की फसल पहली बार बोने पर राइजोबियम कल्चर का प्रयोग आवश्यक होता है ।


दलहनी फसलों में राइजोबियम कल्चर के लाभ


दलहनी वर्ग की फसलों की बुवाई से पहले राइजोबियम कल्चर का प्रयोग करना आवश्यक होता है ।


राइजोबियम कल्चर के निम्नलिखित लाभ होते हैं -

  • राइजोबियम जीवाणु नाइट्रोजन को पौधों तक पहुंचाने का कार्य करते हैं, अत: नाइट्रोजन का स्थिरीकरण होता है ।
  • रासायनिक उर्वरकों मुख्यत: नाइट्रोजन की आवश्यकता कम पड़ती है ।
  • दलहनी फसलों जैसे - चना, मूंग, उड़द एवं अरहर की खेती से उपज में बढ़ोतरी होती है । 

People also ask (Questions and answers) 


राइजोबियम किस प्रकार के जीवाणु है
राइजोबियम जीवाणु कहां पाए जाते हैं
राइजोबियम किस प्रकार का जीवाणु है
राइजोबियम कहां पाया जाता है

राइजोबियम का क्या कार्य है
राइजोबियम का क्या कार्य है यह हमारे लिए क्यों उपयोगी है
राइजोबियम का एक उदाहरण है
राइजोबियम कल्चर प्रयोग करने की विधि
राइजोबियम की पहचान
राइजोबियम का आर्थिक महत्व

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post